विविध

आपदा से बचाव के उपायों की दी गई जानकारी

औरंगाबाद। जिला पदाधिकारी सौरभ जोरवाल के निर्देशानुसार जिले में प्राकृतिक आपदा एवं मानव जनित आपदाओं जैसे बज्रपात, भूकंप, सुखाड़, नदी तालाब, आहर एवं विभिन्न जलस्रोत में डूबने तथा सड़क दुर्घटनाओं, अगलगी से बचाव एवं अन्य आपदाओं की रोक थाम तथा जोखिम न्यूनीकरण पर आम जनमानस, स्थानीय जनप्रतिनिधि, सरकारी कर्मी, जीविका दीदियों, स्वयंसेवी एवं स्थानीय तैराकों को जागरूक करने हेतु आपदा सन्वेदीकरण परिचर्चा का आयोजन देव प्रखंड सभागार में किया गया।

उक्त कार्यक्रम में जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के सलाहकार मणिकांत के द्वारा जिले में घटित होने वाली आपदाओं से सुरक्षा एवं बचाव के बारे में चर्चा की गई तथा यह बताया गया कि आपदा प्रबंधन के बारे हर किसी को आपदा के पहले, आपदा के दौरान तथा आपदा के बाद क्या करें, क्या ना करें , एवं कैसे करे। इसकी जानकारी होना अतिआवश्यक है।

उनके द्वारा यह भी बताया गया कि आपदा के समय फर्स्ट रिस्पांडर समुदाय ही होता है। इसलिए यह महत्वपूर्ण हो जाता है कि आप सभी जागरूक बने ये समय की मांग है। जनप्रतिनिधियों से आग्रह किया कि ग्राम सभाओं में भी इस विषय पर चर्चा की जाय, तथा पूर्व में घटित घटना पर चर्चा भी की जाए। साथ ही जनप्रतिनिधियों से ये भी कहा गया कि आपके आस पास कोई ऐसी जगह जहां अक्सर कोई ना कोई घटना होती है तो इसे जरूर चिन्हित करे तथा उसकी रिपोर्ट से अंचलाधिकारी को अवगत कराएं। ताकि हमलोग उसके सुरक्षा हेतु कार्य की जा सके। जीविका दीदियों को भी समुदाय में आपदा प्रबंधन एवं जोखिम न्यूनीकरण के बारे में बताएं एवं चर्चा करें।

अंत में अग्निशमन के पदाधिकारी एवं कर्मियों के द्वारा शहरी वा ग्रामीण आग से बचाव हेतु मॉक ड्रिल किया गया। उक्त कार्यक्रम में प्रखंड पंचायती राज पदाधिकारी रवि रंजन के द्वारा संचालन किया गया तथा कार्यक्रम में देव प्रखंड जनप्रतिनिधि भोला शंकर, उप प्रमुख, विभिन्न पंचायतों के मुखिया, पचायत समिति सदस्य, जीविका दीदी इत्यादि उपस्थित थे। तथा परिचर्चा में अपने अपने विचार भी व्यक्त किए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please remove ad blocer