विविध

आपसी समझौते का हैं एक सशक्त माध्यम मध्यस्थता: सचिव

औरंगाबाद। अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश सह जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव प्रणव शंकर द्वारा सोमवार को अपने प्रकोष्ठ में जिला विधिक सेवा प्राधिकार के अन्तर्गत पंजीकृत सभी मध्यस्थतों के साथ एक बैठक की गयी। मध्यस्थतों के साथ की गयी बैठक में मध्यस्थत कुमार चन्द्रशेखर सिंह देव, देवन शर्मा, अरूण तिवारी एवं सहदेव मण्डल उपस्थित रहें। सचिव एवं मध्यस्थतों के बीच मध्यस्थता के समय उनके समक्ष मुख्यतः किस तरह की समस्या एवं परेशानी आती है और इनका समाधान कैसे किया जा सकता हैं। इस विषय पर विशेष चर्चा की गयी। वहीं आने वाली समस्याओं पर विस्तार से निदान के उपायों पर भी चर्चा हुई जिसपर सचिव ने तत्काल उसके निदान का आश्वासन मध्यस्थतो को दिया। सचिव द्वारा मध्यस्थता के माध्यम से अधिक से अधिक वादों के निस्तारण पर बल दिया गया। साथ ही सचिव द्वारा बताया गया कि न्यायालय में आने वाले सभी सुलहनीय मामलों में यह प्रथम दृष्टया प्रयास किया जायेगा की उन्हें प्रथम स्तर पर ही मध्यस्थता के माध्यम से सुलझा लिया जाएं जिससे कि न्यायालय पर अतिरिक्त बोझ न बढ़े जिसके लिए सभी न्यायालयों से पत्र के माध्यम से अनुरोध किया जायेगा की जो मामला ऐसा लगता है जो मध्यस्थता के माध्यम से सुलझ सकते हैं। उनसे संबंधित वाद को मध्यस्थता के समक्ष प्रेषित करने के लिए अनुरोध किया जायेगा। सचिव द्वारा मध्यस्थतों के समक्ष कहा कि आने वाले समय में मध्यस्थता के समक्ष काफी मामला आयेगा जिसका निस्तारण हेतु आपकी भूमिका बड़ी होने वाली है। सचिव ने मीडिया से भी यह अपील की है कि वे मध्यस्थता के विषय में लोगों को यथा संभव जानकारी उपलब्ध करायें। ताकि लोगों को मध्यस्थता के फायदे मिल सके और वे मध्यस्थता के माध्यम से अपने न्यायालय में लंबित वादों का निष्पादन सौहाद्रपूर्ण वातावरण में करायें।

2 Comments

  1. Very nice post. I just stumbled upon your weblog and wanted
    to say that I have really loved surfing around your weblog
    posts. In any case I will be subscribing in your rss feed and I am hoping you write once
    more soon!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!

Adblock Detected

Please remove ad blocer