विविध

पानी से नहाया हुआ व्यक्ति स्वच्छ होता हैं, परंतु पसीने से नहाया हुआ व्यक्ति पवित्र होता हैं : प्रो. अरुण

जीएनएसयू विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार के नए विद्यार्थियों का तीन दिवसीय ओरिएंटेशन कार्यक्रम सम्पन्न

सासाराम (रोहतास) किसी भी प्रोफेशन को कॅरियर के तौर पर अपनाने के लिए यह जरूरी होता है कि स्टूडेंट्स उसे बारीकी से समझें। इन्हीं सभी पहलुओं को ध्यान में रखते हुए जीएनएसयू विश्वविद्यालय (गोपाल नारायण सिंह विश्वविद्यालय) द्वारा पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग ने नए स्टूडेंट्स के लिए आयोजित तीन दिवसीय ओरिएंटेशन प्रोग्राम शनिवार को संपन्न हुआ। इस दौरान ओरिएंटेशन प्रोग्राम के साथ स्टूडेंट्स को विभिन्न पहलुओं पर जानकारी दी गयी। कार्यक्रम के मुख्य अतिथी बिहार लोक सेवा आयोग के सदस्य प्रो. अरुण कुमार भगत ने कहा कि पत्रकारिता के क्षेत्र में स्टूडेंट्स के लिए पर्याप्त संभावनाएं हैं। वहीं उन्होंने स्टूडेंट्स का मार्गदर्शन करते हुए पत्रकारिता के विभिन्न आयामों पर चर्चा किया। उनका कहना था कि पानी से नहाया हुआ व्यक्ति स्वच्छ होता हैं। वहीं पसीने से नहाया हुआ व्यक्ति पवित्र होता है। यह तय आपको करना है कि कितने अनुपात में आपकों मेहनत करना है। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र के तीन मुख्य स्तंभ हैं जिसमें न्यायपालिका व्यवस्थापिका एवं और कार्यपालिका शामिल हैं। वहीं इन सभी पर अंकुश लगाने के लिए लोक मान्यताओं के अनुसार

चौथा स्तंभ होने का गैरव पत्रकारिता को प्राप्त हैं। पुरापाषाण काल से लेकर आज तक पत्रकारिता की आम जनमानस में एक अहम भूमिका रही है। यह अपने आप में सत्यम शिवम सुंदरम के रूप है। यह सामाजिक सरोकार की पूर्ति करता है। साथ ही उन्होंने कहा कि भारत में आधुनिक पत्रकारिता की नींव रखने वाले जेम्स ऑगस्टस हिक्की है। स्वतंत्र सेनानियों ने भी अपने मजबूत हथियार के रूप में पत्रकारिता को चुना था। कार्यक्रम में विश्वविद्यालय के सचिव श्री गोविन्द नारायण सिंह ने भी छात्रों से कहा कि पत्रकारिता में प्रबंधन और संचार दोनों का अपना महत्व है क्योंकि बिना कुशल संचार के पत्रकारिता कठिन है। वहीं विभागाध्यक्ष अमीत कुमार मिश्रा ने पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग के तीन दिवसीय ओरियंटेशन प्रोग्राम के अंतिम दिन उपस्थित सभी शिक्षकों एवं छात्रों का स्वागत किया और कहा कि सतही ज्ञान व स्तरहीन पत्रकारिता से किसी समाज का भला नहीं हो सकता। पत्रकारिता के क्षेत्र में व्यक्ति को विभिन्न क्षेत्रों का गहराई तक ज्ञान होना चाहिए तभी वे अपने कार्यक्षेत्र में सफल हो सकते है। पत्रकारिता एक महान कार्यक्षेत्र है जिसका मुख्य ध्येय समाज सेवा है। इस क्षेत्र में आने वाले युवाओं को गंभीर व संवेदनशील होना चाहिए क्योंकि वर्तमान की पत्रकारिता पहले से ज्यादा जोखिम वाली हो चली है। आज कुछ कहना पहले की तुलना में ज्यादा जोखिम साबित हो रहा है। इस विशेष मौके पर विभाग के छात्रों ने इवेंट मैनेजमेंट का कार्य किया कार्यक्रम में विभाग के सहायक प्राध्यापक फहमीन हुसैन, अमित कुमार सिंह, चंचल सिंह सहित सभी छात्र छात्राएं उपस्थित रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please remove ad blocer