विविध

डीईओ ने बच्चों को खेल-खेल में शिक्षा के लिए किया प्रेरित

बच्चों ने खिंचवाई सेल्फी, उझलम कूद खेल में किया बेहतर प्रदर्शन 

औरंगाबाद। सरकारी स्कूलों में कक्षा एक से लेकर तीन तक के बच्चों को बुनियादी साक्षरता एवं संख्या ज्ञान में निपुणता के लिए भारत सरकार की नई शिक्षा नीति के तहत निपुण बिहार की शुरुआत की हैं। यह कार्यक्रम 14  से 21 नवंबर तक आयोजित किया गया जिसका उद्देश्य बच्चों में अक्षर एवं संख्यात्मक ज्ञान के लिए प्रेरित करना है। इसी कड़ी में आज शहर के अनुग्रह मध्य विद्यालय में निपुण बिहार कार्यक्रम आयोजित किया गया जहां जिला शिक्षा पदाधिकारी संग्राम सिंह, जिला कार्यक्रम पदाधिकारी गार्गी कुमारी एवं प्रधानाध्यापक उदय कुमार सिंह के देख रेख में बच्चों के बीच विभिन्न गतिविधियां आयोजित किया गया। जहां उझलम कूद खेल में बच्चों ने बेहतरीन प्रदर्शन किया। इसके अलावा इस कार्यक्रम में आकर्षण का केंद्र रथ के साथ सेल्फी प्वाइंट में बच्चों ने सेल्फी खिंचवाने का आनंद लिया।
इस अवसर पर ज़िला शिक्षा पदाधिकारी संग्राम सिंह ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में काफी बदलाव किए गए हैं जिसमें न्यू एजुकेशन पॉलिसी को सफल क्रियान्वयन के लिए भारत सरकार द्वारा कक्षा एक से लेकर तीन तक के बच्चों के लिए विभिन्न गतिविधियां आयोजित की जा रही हैं जिसके तहत निपुण बिहार कार्यक्रम की शुरुआत 14 नवंबर से की गई है, जो 21 नवंबर तक आयोजित की जाएंगी। इसके तहत बच्चों में आधारभूत साक्षरता एवं संख्यात्मक ज्ञान को लेकर अधिक से अधिक प्रेरित करना हैं। इसी उद्देश्य से यह कार्यक्रम आयोजित किया गया। इसके लिए पूर्व में प्रखंड स्तर पर शिक्षकों को प्रशिक्षित किया गया हैं।
यह कार्यक्रम पूरे प्रदेश भर में आयोजित किया जा रहा है इसी कड़ी में आज गया जिले से औरंगाबाद जिले में निपुण बिहार रथ पहुंची है। इसके बाद यह रथ दाउदनगर होते हुए अरवल जिले में जाएगी। इस दौरान विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से बच्चों को अक्षर एवं संख्या ज्ञान की जानकारी दी गई। उन्होंने कहा इसके माध्यम से उन बच्चों को भी पढ़ने के लिए प्रेरित किया जा रहा है, जो किसी कारणवश पढ़ाई से दूर हो चुके हैं जिन्हें उत्साहित किया जाएगा ताकि वे बच्चे खेल के साथ-साथ पढ़ाई कर सकें।
जिला कार्यक्रम पदाधिकारी गार्गी कुमारी ने कहा कि निपुण बिहार कार्यक्रम में बच्चों को अक्षर ज्ञान एवं संख्या ज्ञान की जानकारी उपलब्ध कराई जा रही है ताकि गुणवत्तायुक्त शिक्षा पाकर बच्चें आसानी से गिनती एवं कहानियां पढ़ सके। प्रधानाध्यापक उदय कुमार सिंह ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में बच्चों के लिए भारत सरकार की यह अच्छी पहल है। अब तक ऐसा देखा गया है कि कक्षा के अनुसार बच्चे पाठ्य पुस्तकों को ना पढ़ पा रहे हैं और ना समझ पा रहे हैं, जो काफ़ी दुःखद है जिसके सापेक्ष में भारत सरकार ने नई शिक्षा नीति के तहत निर्णय लिया है जिसमें कक्षा एक से लेकर तीन तक के बच्चों को अक्षर एवं संख्या ज्ञान के लिए निपुण बिहार कार्यक्रम की शुरुआत की गई है जिसके तहत बच्चों में पढ़ने की क्रिया के साथ – साथ समझने की चीजों को युक्त किया गया है। इससे बच्चों में पढ़ने की प्रवृत्ति जागृत होगी। इस दौरान बच्चों के बीच उझलम कूद खेल का आयोजन किया गया जिसमें बच्चों ने बेहतरीन प्रदर्शन किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please remove ad blocer