मगध हेडलाइंस

जयघोष से गुंजायमान रहा वातावरण

डॉ ओमप्रकाश कुमार

औरंगाबाद। श्री कृष्ण जन्माष्टमी का त्योहार आस्था एवं परंपरा पूर्वक धूमधाम से दाउदनगर में मनाया गया। दिन से ही मंदिरों की भव्य एवं आकर्षक तरीके से सजावट की गयी और रोशनी का व्यापक प्रबंध किया गया। रात्रि में 12 बजते ही भगवान श्री कृष्ण का जन्मोत्सव परंपरा पूर्वक मनाया गया। “हाथी घोड़ा पालकी, जय कन्हैया लाल की ‘एवं भगवान श्री कृष्ण, माता देवकी, नंद बाबा के जयघोष से पूरा वातावरण गुंजयमान हो गया। श्री कृष्ण जन्माष्टमी को लेकर दाउदनगर के श्री हनुमान मंदिर को भव्य एवं आकर्षक तरीके से सजाया गया। रात्रि में भगवान श्री कृष्ण का जन्मोत्सव मनाया गया मान्यता के अनुसार ,अर्धरात्रि में जैसे ही भगवान श्री कृष्ण के जन्म का समय हुआ ,वैसे ही श्रद्धालु खुशी से झूम उठे। पुजारी पं. देव शरण मिश्र ने विधिवत पूजा-अर्चना करायी। महा आरती का आयोजन किया गया. महिलाओं द्वारा सोहर गाये गये। मौके पर मंदिर कमिटी के अध्यक्ष प्रो.अटल बिहारी, सचिव सुरेश प्रसाद, पूजा व्यवस्थापक प्रमुख पप्पू गुप्ता, सुनील केसरी, रामजी प्रसाद, चंदन कसेरा, कृष्णा केसरी, प्रदुमन कुमार, विकास कुमार, मोनू कुमार ,सुशील कुमार, धीरज कसेरा, भरत गोस्वामी, रोहित कुमार आदि प्रमुख रूप से मौजूद रहे.पुराना शहर स्थित जोड़ा मंदिर में पंडित किशोरी मोहन मिश्र ने विधिवत मंत्रोच्चार के साथ पूजन किया। भगवान श्री कृष्ण के जन्मोत्सव के बाद महाआरती की गयी। काफी संख्या में महिला- पुरुष श्रद्धालु दर्शन के लिये उमड़ पड़े।

आयोजन को सफल बनाने में भाजपा नगर अध्यक्ष विवेकानंद मिश्रा, ब्रजेश कुमार, चंचल कुमार, रामजी प्रसाद, अवकाश प्राप्त शिक्षक ललन प्रसाद, सोहराई मेहता, रंगलाल मेहता, बैजनाथ मेहता,मल्लु प्रसाद, मुनमुन प्रसाद, मुरारी शर्मा, शिव प्रसाद, प्रहलाद प्रसाद, पंकज सिंह, सपना शर्मा,अभिमन्यु विश्वकर्मा, राजू गुप्ता, पप्पू गुप्ता, मुकेश कुमार आदि ने भूमिका निभायी। दाउदनगर अनुमंडल मुख्यालय के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों तक श्री कृष्ण जन्माष्टमी धूमधाम से मनायी गयी। शहर के श्री राम मंदिर में जन्माष्टमी मनायी गयी। रौनियार वैश्य स्थल में रौनियार वैश्य संगठन समिति द्वारा आस्था एवं परंपरापूर्वक धूमधाम से जन्माष्टमी का त्योहार मनाया गया। सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन भी किया गया।

Admin

The purpose of this news portal is not to support any particular class, politics or community. Rather, it is to make the readers aware of reliable and authentic news.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button