विविध

अंतराष्ट्रीय बालिका दिवस पर विधिक जागरूकता अभियान 

औरंगाबाद। आजादी के अमृत महोत्सव कार्यक्रम के तहत बालिका दिवस पर जिला विधिक सेवा प्राधिकार ने आयोजित की विशेष कार्यक्रम को सफल बनाने हेतु अचानक पहुंचे जिला जज, दिया बालिकाओं के सवालों के सुलभ जवाब। जिला विधिक सेवा प्राधिकार, औरंगाबाद ने अंतराष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर किशोरी सिन्हा कन्या उच्च विधालय, औरंगाबाद में विशेष जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। उक्त जागरूकता शिविर में बालिकाओं के स्वास्थ्य जांच के साथ-साथ डाक विभाग के द्वारा भी सहभागिता निभाई गई कार्यक्रम के प्रथम चरण में जिला शिक्षा पदाधिकारी संग्राम सिंह, प्रभारी जिला प्रोग्राम पदाधिकारी ममता कुमारी, प्रधानाघ्यापक उषा सिंह, पैनल अधिवक्ता स्नेहलता एवं मीरा कुमारी, पुलिस अधिकारी कुमकुम कुमारी, कार्यक्रम संयोजक डॉ निरंजय कुमार ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का औपचारिक उदधाटन किया। कार्यक्रम के प्रारंभ में संगीत शिक्षक विरेन्द्र, सरोज एवं रेखा के निर्देशन में छात्राओं ने स्वागत गीत प्रस्तुत किया जो बेहद ही सराहनीय था। कार्यक्रम का संचालन संयुक्त रूप से पंकज कुमार तथा डॉ निरंजय कुमार ने किया। कार्यक्रम मे वक्ताओं ने अपने वक्तव्य में बालिकाओं के अधिकार, उनसे संबंधित सुरक्षा से जुडे सवाल पर वक्तव्य के साथ-साथ उनके कल्याण से जुडे विभिन्न कार्यक्रमों मे बालिकाओं को जानकारी उपलब्ध करायी। कार्यक्रम का मुख्य केन्द्र बालिकाओं के मन में उठने वाले विभिन्न सवालों के जवाब उपलब्ध कराने का जोर था इसलिए कार्यक्रम में बालिकाओं से जुड़े अत्यधिक सवाल आये जिनका उतर वहां उपस्थित वक्ताओं ने बडें ही संयम एवं सुलभ शब्दों में बालिकाओं को दिया, जिससे बालिकाएं संतुष्ट दिखी। इसी कार्यक्रम में अचानक जिला एवं सत्र न्यायाधीश सह अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकार, औरंगाबाद मनोज कुमार तिवारी, अपर जिला एवं सत्र न्यायधीश सह जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव प्रणव शंकर, स्पेशल जज पौक्सो विवेक कुमार अचानक कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे जिससे कार्यक्रम में स्फूर्ति आ गई। अपने बीच जिला जज एवं अन्य न्यायाधीश को देखकर बालिकाएं बेहद ही उत्साहित हो गई। जिला जज ने बालिकाओं से कहा की हम सब आपके लिए ही आये हैं। आपके मन में जितने भी सवाल हैं पुछिएं हर सवाल का जवाब हमसब देने का कोशीश करेगें। किसी को भी निराश नही होना पडेंगा। जिला जज का यह वक्तव्य बालिकाओं में सवालो के प्रतिस्पर्धा पैदा कर दी। बालिकाओं के मन में गरीबी उन्मूलन, छेडछाड, धरेलू हिंसा न्यायालय के कार्य से जुडें कई सवाल, बच्चों के प्रति यौन शोषण से जुड़े सवाल, शिक्षा से जुडें सवाल, सरकार द्वारा चलाए जा रहे कई कार्यक्रम जैसे साइकिल योजना, पोशाक योजना, छात्रवृति तथा पुलिस की कार्यशैली जैसे अनेकों भोलेभाले सवाल और कुछ कठिन सवाल भी बालिकाओं के द्वारा पुछा गया जिसे जिला जज, सचिव तथा स्पेशल जज के साथ साथ वहां विभिन्न विभागों से आये लोगों ने तत्काल उतर उपलब्ध कराकर बालिकाओं को संतुष्ट किया। अनेकों सवालों में मीनू कुमारी, खुशी कुमारी, निहारिका कुमारी, शिखा कुमारी, पूजा कुमारी, नाजिया खातुन, शोभा कुमारी के सवाल बेहद ही औचित्यपूर्ण थें जिनके जवाब तत्काल जिला जज तथा उनके निर्देश पर उपस्थित विभागों के द्वारा उपलब्ध कराया गया। कार्यक्रम में उपस्थित शिक्षक एवं छात्राओं ने अपने सामने न्यायाधीश गण को देखकर कहा कि अभी तक हमसब प्रशासन से जुड़े लोंगों को ही अपने बीच देख पाये थें। आज पहली बार हमलोगों के बीच जिला जज तथा अन्य न्यायिक पदाधिकारी आये विश्वास नही होता। न्यायिक पदाधिकारियों एवं जिला जज को देखकर कई छात्राऐं खुद को न्यायिक क्षेत्र में आने हेतु उत्सुक दिखी। पुरे कार्यक्रम का पहली बार जिला विधिक सेवा प्राधिकार के अधिकारिक प्लेटफार्म युटुब एवं फेसबुक पर लाइव प्रसारण किया गया। इस कार्यक्रम के साथ-साथ जिला विधिक सेवा प्राधिकार के बैनर तले स्वास्थ्य विभाग ने चिकित्सा जांच सिविर लगाया जिसमें डॉ अर्चना ने बालिकाओं के स्वास्थय जांच किया तथा उन्हें संबंधित चिकित्सीय सुक्षाव के साथ साथ दवा उपलब्ध कराई। वही डाक विभाग, कल्याण विभाग के द्वारा भी अपना अपना स्टॉल लगाकर बालिकाओं से जुडें कार्यक्रमों की जानकारी दी गई। कार्यक्रम का संयोजक पैनल अधिवक्ता अभिनन्दन कुमार तथा लिपिक परशुराम सिंह थे। कार्यक्रम में पारा विधिक स्वंय सेवक स्वेता रंजनी सिंह तथा निर्मला कुमारी उपस्थित थी। टेकनिकल सपोट पैनल अधिवक्ता अभिनन्दन कुमार तथा विधि छात्र कुणाल रंजन, ऋतु कुमारी का रहा। दूसरी तरफ जिला विधिक सेवा प्राधिकार अमृत महोत्सव के तहत जिले के विभिन्न हिस्सों में वृहत घर-घर जागरूकता अभियान चला रही हैं जिसमें पांच टीम विधि छात्र एवं पारा विधिक स्वयं सेवकों के लगभग प्रतिदिन 15 से 20 गांव में जागरूकता कार्यक्रम चला रहा हैं साथ ही एक मोबाईल वैन से भी विधिक जागरूकता कार्यक्रम का संचालन ग्रामीण क्षेत्रों में किया जा रहा हैं।

Admin

The purpose of this news portal is not to support any particular class, politics or community. Rather, it is to make the readers aware of reliable and authentic news.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button